'सक्सेस स्टोरी'


 1. सक्सेस स्टोरी (1): आठ साल दुकान के बरामदे पर सोये और माँ के गहने बेचकर लगाया था बिजनेस में: कभी दुकान में की थी 250 रूपये महीने पर स्टाफ की नौकरी, आज कोसी के बड़े व्यवसायी में शुमार (भाग-1)

2. सक्सेस स्टोरी (1): अद्भुत है अशोक के संघर्ष की कहानी: यूं ही कोई सफल नहीं हो जाता’ (अंतिम भाग)

3. सक्सेस स्टोरी (2): कभी कचरा बीनते थे मधेपुरा की गंदगी में और जूठा प्लेट तक उठाया. आज हैं एक बड़े होटल के मालिक और रहते हैं आलिशान घर में

4. सक्सेस स्टोरी (2): संघर्ष में नहीं देता कोई साथ, पर धैर्य है आपका सच्चा साथी: छोटी चाय दूकान से बड़े होटल और घर का संघर्ष कहता है कुछ ख़ास  

5. सक्सेस स्टोरी (3): ‘हम प्रणाम करते हैं उस बिहार की माटी को जहाँ आप जैसी लड़की हैं’: मधेपुरा जैसे छोटे शहर से गायन के अभ्यास से देश स्तर पर बनाई पहचान

6. सक्सेस स्टोरी (3): संगीत के क्षेत्र में यदि प्रतिभा हो तो आगे बढ़ने से नहीं रोक सकता कोई: 104 डिग्री बुखार में भी भारत के प्रसिद्ध जजों के सामने गया था ताकि बरक़रार रहे बिहार की शान

7. सक्सेस स्टोरी (4): ‘एक बिहारी, सब पर भारी’: गणित में फेल होकर छोड़ी थी पढ़ाई, पर आज इनकी सफलता को सभी करते हैं नमन, 5 हजार की पूँजी से हुआ विशाल व्यवसाय

8. सक्सेस स्टोरी (5): जीरो से बने असली ‘हीरो’, कभी करते थे पार्ट्स की दुकान, आज कोसी के सबसे बड़े वाहन शो-रूम के हैं मालिक (भाग-1)  

9. सक्सेस स्टोरी (5):  कर्म को भगवान मानने वाले इस हीरो के पीछे भी है एक हीरो जिसने अपने घर-मकान को गिरवी रख कर की थी अशफाक की मदद: आसान नहीं था बाथरूम साइज के दुकान से भव्य शोरूम तक का सफ़र (अंतिम भाग)

10. सक्सेस स्टोरी (6): ‘बिहार में बहार हो, नीतीशे कुमार हो’: नीतीश कुमार ने कलम के जादूगर मधेपुरा के गीतकार राजशेखर से पहली मुलाक़ात में पूछा था ‘बिहारे के हैं क्या?” (भाग-1)

11. ‘फिर से नीतीशे’: सक्सेस स्टोरी (6): बचपन में चाचा के आलमीरा से नागार्जुन की किताब चुरा कर पढ़ने और ‘बिहार में बहार हो’ गीत लिखने वाले गीतकार राजशेखर  के मधेपुरा से बॉलीवुड तक की जिन्दगी रही उतार-चढ़ाव से भरी (भाग-2) 

12. सक्सेस स्टोरी (7): पापिया गांगुली: सुर जब फिजां में गूंजते हैं तो श्रोता सुध-बुध खो बैठते हैं.. (भाग-1)

 13.सक्सेस स्टोरी (7): पापिया गांगुली: ‘लगन लागी प्यार की तोहसे, दीवानी हम त हो गईली’ (अंतिम भाग)
 

0 comments:

Post a Comment